bhai dooj 2023 muhurat | bhai dooj 2023 muhurat time in hindi

bhai dooj 2023 muhurat | bhai dooj 2023 muhurat time in hindi

bhai dooj 2023 muhurat | bhai dooj 2023 muhurat time in hindi Discover the auspicious Bhai Dooj muhurat for 2023 and immerse yourself in the traditions and rituals that honor the unbreakable bond between brothers and sisters.

FAQs :

  1. When is Bhai Dooj 2023?

Bhai Dooj 2023 falls on November 14, 2023.

  1. What is the significance of Bhai Dooj?

Bhai Dooj is a Hindu festival that celebrates the unbreakable bond between brothers and sisters. It is a day for sisters to pray for their brothers’ long and prosperous lives, and for brothers to express their love and gratitude to their sisters.

  1. What is the muhurat for Bhai Dooj 2023?

The auspicious muhurat for Bhai Dooj 2023 is from 1:12 PM to 3:15 PM on November 14, 2023.

Related Queries:

  1. Bhai Dooj 2023 tithi

  2. Bhai Dooj 2023 puja vidhi

  3. Bhai Dooj 2023 wishes

  4. Bhai Dooj 2023 gifts

  5. Bhai Dooj 2023 importance

    bhai dooj 2023 muhurat | bhai dooj 2023 muhurat time in hindi
    bhai dooj 2023 muhurat | bhai dooj 2023 muhurat time in hindi

Long Tail Keywords:

  1. Bhai Dooj 2023 muhurat in Hindi

  2. Bhai Dooj 2023 muhurat in Tamil

  3. Bhai Dooj 2023 muhurat in Telugu

  4. Bhai Dooj 2023 muhurat in Bengali

  5. Bhai Dooj 2023 muhurat in Marathi

Keywords:

Keyword Keyword Intent Recommended Usage
bhai dooj 2023 muhurat Informational 3
bhai dooj 2023 tithi Informational 2
bhai dooj 2023 puja vidhi Informational 2
bhai dooj 2023 wishes Transactional 2
bhai dooj 2023 gifts Transactional 2
bhai dooj 2023 significance Informational 2
bhai dooj 2023 importance Informational 2

Entities:

  1. Bhai Dooj

  2. Festival

  3. Brothers and sisters

  4. Tithi

  5. Puja

  6. Rituals

  7. Gifts

  8. Greetings

  9. Tradition

  10. Celebration

भाई दूज 2023 मुहूर्त समय

भाई दूज 2023 कार्तिक मास की शुक्ल पक्ष की द्वितीया तिथि को मनाया जाएगा। इस दिन भाई को तिलक लगाने का शुभ मुहूर्त दोपहर 1:12 बजे से शाम 3:15 बजे तक रहेगा।

भाई दूज 2023 मुहूर्त की अन्य जानकारी
  • तिथि प्रारंभ: 14 नवंबर 2023, दोपहर 2:36 बजे
  • तिथि समापन: 15 नवंबर 2023, दोपहर 1:47 बजे
  • राहुकाल: दोपहर 12:03 बजे से 1:24 बजे तक

भाई दूज एक हिंदू त्योहार है जो भाई-बहन के पवित्र बंधन का प्रतीक है। इस दिन बहनें अपने भाईयों की लंबी उम्र और सुख-सौभाग्य की कामना करती हैं।

भाई दूज 2023 का मुहूर्त

भाई दूज 2023 कार्तिक मास की शुक्ल पक्ष की द्वितीया तिथि को मनाया जाएगा। इस बार भाई दूज 14 नवंबर 2023 को है।

भाई दूज के दिन बहनें अपने भाईयों को तिलक लगाकर उनकी लंबी उम्र और सुख-सौभाग्य की कामना करती हैं। इस दिन भाई अपनी बहनों को उपहार देते हैं।

भाई दूज का मुहूर्त इस प्रकार है:

  • प्रातः काल मुहूर्त: 06:44 AM से 09:24 AM तक
  • शाम का मुहूर्त: 04:24 PM से 06:04 PM तक

भाई दूज का सबसे शुभ मुहूर्त दोपहर 1:12 PM से 3:15 PM तक है। इस समय में भाई-बहनों को एक-दूसरे को तिलक लगाना चाहिए।

भाई दूज की पूजा विधि

भाई दूज की पूजा सुबह जल्दी उठकर करनी चाहिए। सबसे पहले स्नान आदि से निवृत्त होकर स्वच्छ वस्त्र धारण करें। फिर घर के मंदिर में गंगाजल छिड़ककर भगवान की पूजा करें। भाई दूज पर भगवान विष्णु, यमराज और यमुना देवी की पूजा की जाती है।

भगवान विष्णु को तुलसी, पीले फूल, फल और मिठाई अर्पित करें। यमराज को सफेद फूल, फल और मिठाई अर्पित करें। यमुना देवी को पीले फूल, फल और मिठाई अर्पित करें।

पूजा के बाद भाई दूज की कथा सुनें। फिर भाई को तिलक लगाएं और उसे मिठाई खिलाएं। भाई अपनी बहन को उपहार दे।

भाई दूज की कथा

एक समय की बात है, एक भाई और बहन थे। भाई का नाम यम था और बहन का नाम यमुना था। यम बहुत ही कठोर स्वभाव के थे। वह हमेशा अपनी बहन को डांटते-फटकारते रहते थे।

एक दिन यम ने यमुना को कहा कि अगर वह अगले दिन सुबह तक घर नहीं लौटी तो वह उसे मार डालेगा। यमुना बहुत डर गई। वह रात भर रोती रही।

दूसरे दिन सुबह यमुना अपने भाई के पास पहुंची। यम ने उसे डांटना शुरू कर दिया। यमुना रोती रही।

तभी वहां भगवान विष्णु आ गए। उन्होंने यम और यमुना को समझाया कि भाई-बहन का रिश्ता बहुत पवित्र होता है। भाई-बहन को हमेशा एक-दूसरे का सम्मान करना चाहिए।

यम और यमुना भगवान विष्णु की बात मान गए। उन्होंने वादा किया कि वह हमेशा एक-दूसरे का सम्मान करेंगे।

भगवान विष्णु ने यमुना को वरदान दिया कि जो भी भाई-बहन भाई दूज के दिन एक-दूसरे को तिलक लगाएगा, उसके भाई की आयु लंबी होगी और वह सुखी रहेगा।

भाई दूज भाई-बहन के प्रेम और स्नेह का प्रतीक है। यह एक ऐसा दिन है जब भाई-बहन एक-दूसरे के लिए अपना प्यार और सम्मान व्यक्त करते हैं।

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

four × 5 =

Scroll to Top